नवजात शिशु के लिए खरीदे जाने वाले सामान की लिस्ट

13025
User Rating
(1 review)
READ BY
Photo Credit: Bigstockphoto
Vishakha Rawal

Vishakha Rawal

An ambivert, a humanist, a true philotherian, dreamer, loves adding and checking things off the bucket list, movie buff, an avid traveler, an amateur artist, writer, blogger, engineer, and yes an entrepreneur as well!

Read this article in English
यह लेख English में पढ़ें।

इस लेख में

  1. बेबी के कमरे की रूप रेखा को समझे।
  2. पहले दिन से ही आपको अपने बच्चे को प्रेरित करना है।
  3. साथ ही अपने लिए कुछ खुले कपड़े लेना ना भूले।

अंजन्मे शिशु की माँ के गर्भ में होने वाली हलचले या किक्स, एक माँ के लिए एक ना भूले जाने वाला पल होता है। बच्चे के जन्‍म से पहले या यह कहे कि उसके जन्म से बहुत पहले ही माता-पिता को बहुत तैयारी करनी पड़ती हैं।

माता-पिता बनने का एहसास एक ऐसा लम्हा होता है जब आपकी हर एक गूगल सर्च एक ही चीज़ पर आ कर रुक जाती है – नवजात शिशु के लिए खरीदे जाने वाले सामान की लिस्ट।

आप भी जानते है कि नवजात बच्चे के घर आने के बाद, कुछ समय के लिए तो आप बँध जाओगे और उस टाइम में शापिंग का तो सवाल ही नही उठता।

डिलिवरी के बाद आपको भी फिट होने में टाइम लगेगा। ज़ाहिर सी बात है कि शुरूआत के दिनों में आपका कही भी जा पाना संभव नही होगा, फिर चाहे आपकी नॉर्मल डिलिवरी है या सीज़ेरियन। इसके साथ-साथ आपके नवजात शिशु को भी आपकी पूरी जरूरत होगी। इस लिए नवजात शिशु के लिए कुछ जरूरी चीज़ों को उसके आने से पहले ही खरीद लेने में समझदारी होती है। यह सब चीज़ें इस प्रकार हैं।

नवजात शिशु का कमरा

एक्सपर्ट्स के मुताबिक नवजात शिशु का कमरा, उसमें इस्तेमाल होने वाले रंग, फर्नीचर, और बाकी जरूरत का साजो-समान, उसके व्यक्तित्व पर असर डालेंगे।

जब बात बच्चे के भविष्य की हो तो कोई समझौता हो ही नही सकता और ना ही इसको मज़ाक में लिया जा सकता है। इस में किसी किस्म की लापरवाही का मतलब है, अपने बच्चे के भविष्य से खिलवाड़ करना।

अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा डॉक्टर बने, इंजिनियर बने, फिल्मी अदाकार बने, गायक बने, खिलाड़ी बने या सूपर हीरो बने; आपको उसकी तैयारी उसके पहले दिन से ही करनी पड़ेगी। यकीन मानिए, पहले की गई तैयारी बाद में आपका बहुत बड़ा मसला हल करेगी।

नवजात शिशु के कमरे की रूप-रेखा

अगर आपको इस बारे में कोई जानकारी नहीं है तो इसमे कोई हैरानी की बात नहीं है। लेकिन फिर भी, कमरे की रूप-रेखा के बारे में सोचना कोई मुश्किल बात नहीं है। इससे पहले की आप नवजात शिशु के कमरे में कोई भी बदलाव करे, आपको एक लिस्ट बना लेनी चाहिए।

सबसे पहले आपको आपने बच्चे के कमरे को समझना होगा। जी नहीं, आप इसको टाल नही सकते क्योंकि अगर आज आपको टाल देंगे, तो आपको बाद में पछताना पड़ेगा।

आपको, खुद से यह सवाल करने चाहिए –

कमरे में रोशनी कहाँ से आएगी? जरूरत से ज़्यादा रोशनी आपके बच्चे की नींद खराब करेगी और वो पूरी नींद नहीं ले पाएगा और वक़्त से पहले उठ जाएगा। क्या आप अपने बच्चे का बिस्तर ऐसी जगह प्लान कर रहे है जिसके पास कोई खिड़की है जहाँ से सर्दियों में ठंडी हवा आएगी? ऐसी छोटी छोटी चीज़े आपको अपने बच्चे के बेडरूम की जगह निर्धारित करने में बहुत मदद करेगी।

जरूरी फर्निचर

नवजात शिशु को घर लाने से पहले आपको कुछ फर्निचर जरूर खरीद लेना चाहिए। कुछ चीज़े जैसे सोने के लिए पालना, डाइपर बदलने के लिए कोई फोम या गद्दे वाला आरामदायक और सेफ मेज़, शिशु के कपड़े रखने के लिए कोई कपबोर्ड या अलमारी जिसमे जरूरत के हिसाब से खाने हो, स्तनपान करवाने के लिए कुर्सी और मेज़, और अगर आप बच्चे को ज़मीन पर लिटा के मालिश इत्यादि करना चाहती है तो उसके लिए कोई मखमली सा कंबल। यह सब चीज़ों का इंतेज़ाम पहले से ही कर लें।

बच्चे के कमरे के रंग

बच्चे के कमरे के रंग बड़ों के कमरे के रंगों से एकदम अलग तरीके से चुने जाते हैं। यहाँ पर आपको थोड़ी कलाकारी सीखनी ही पड़ेगी। प्रयोग करके देखें; दो दीवारों पर एक जैसा रंग और बाकी बची दो दीवारों पर कुछ हलका रंग करके देखें। रंग बड़े ध्यान से चुने क्योंकि रंगों से ही सारे कमरे की रौनक है।

बच्चे के कमरे के पर्दे

बच्चे के कमरे के पर्दे चुनते समय कुछ चीज़ों का खास तौर पर ध्यान रखा जाना चाहिए, जैसे कि पर्दे के रंग, पर्दे की लंबाई, और पर्दे टांगने की रॉड। रॉड वाले पर्दे से दुर्घटना का डर बना रहता है। जैसे ही आपका बच्चा चीज़ों को पकड़-पकड़ के चलने लगता है, तो ज़ाहिर सी बात है कि वो पर्दों को पकड़ के भी चलने की कोशिश करेगा और ऐसे में पर्दे के उपर से गिरने का ख़तरा ज़्यादा होता है। ध्यान रखे कि पर्दों की लंबाई ज़्यादा ना हो ताकि आपका बच्चा उसमे फँस क ना गिरे।

घर की सफाई

गर्भावस्था में खुद से झाड़पोंछ करना ख़तरनाक हो सकता है, आप गिर भी सकती है और आपको धूल मिट्टी से एलर्जी भी हो सकती है। तो, बेहतर रहेगा कि इस काम में किसी का साथ ले लिया जाए। बहुत सी ऐसी संस्थाएँ है जो स तरह की साफ़ सफाई में निपुण होती है। किसी ऐसे एक्सपर्ट की मदद ले लेनी चाहिए जो मुश्किल से मुश्किल कोने में भी सफाई करना जानता हो।

यह नीचे एक लिस्ट दी गई है। ऐसी ही एक लिस्ट आप बना ले और हो सके तो उसका प्रिंट भी ले ले। इससे आपको यह पता चल जाएगा की आपको उपर लिखे सब छोटे बड़े बदलाव करने के लिए कितने पैसे की जरूरत पड़ेगी।

आपके लिए सबसे उत्तम सामान

इनके साथ साथ अपने लिए भी कुछ खुले कपड़े ले ले। शिशु होने के बाद कुछ महीनो तक आप अपना वजन कम नही कर पाएँगी।

सबसे जरूरी बात, एक बढ़िया सा शिशु विशेषज्ञ जरूर ढूंढ लें। ध्यान रहे की यह एक ऐसा विशेषज्ञ हो जो हर समय आपके लिए उपलब्‍ध हो। जिस भी डॉक्टर ने आपकी डिलिवरी की है, उसी से पूछिए क्योंकि उसके पास कोई ना कोई सुझाव अवश्य होगा।

  • Write a Review
  • Ask a Question
{{ reviewsOverall }} / 5 User Rating (1 review)
How helpful was this article?
What people say... Write your experience
क्रमबद्ध करें

सबसे पहले अपना अनुभव बाँटे।

Verified Review
{{{ review.rating_title }}}
{{{review.rating_comment | nl2br}}}

Show more
{{ pageNumber+1 }}
Write your experience

Your browser does not support images upload. Please choose a modern one

Latest Questions

अपने बच्चे के सामान के लिए इस से उचित शुरुआत क्या होगी।

टाइनी लव 3-इन-1 रॉकर नॅपर(ब्राउन)

Popular on Amazon

Amazon पर पॉपुलर

Price From ₹5,770.00

  • कोमल और 3 अलग पोज़िशन्स में उपलब्ध।
  • 18 किलोग्राम तक वजन उठाये ताकि बच्चे के बड़े होने तक काम आए।
Vishakha Rawal
An ambivert, a humanist, a true philotherian, dreamer, loves adding and checking things off the bucket list, movie buff, an avid traveler, an amateur artist, writer, blogger, engineer, and yes an entrepreneur as well!