अपने नवजात शिशु के नाख़ून कैसे काटें

51
READ BY
Photo Credit: bigstockphoto.com
Kirti Bhartari

    Kirti Bhartari

    I am mother of one. Beside nurturing her the best way I can and taking care of my family fronts, I am passionate about cooking and ayurvedas. I also like spending time around intellectuals. And, in future, I would like to start my own NGO with one motive - helping humanity.

    Read this article in English

    जब नवजात बच्चे की स्वच्छता का सवाल आता है, तो माँ-बाप को यह ध्यान में रखना चाहिए कि जितना हो सके उतना स्वच्छ रखे। नवजात शिशु के नाख़ून काटना भी उनमे से एक है।

    चाहे वो नहलाना हो, बच्चे कि गर्भनाल साफ़ करना हो, नैप्पी बदलना हो, गुप्तांगों की देख रेख हो, या फिर उसके कान, नाक, और नाखूनों की साफ़-सफाई हो, निरंतरता और बेहद सावधानी रखना बहुत जरूरी है। ऐसी बातों को लेकर नवजात शिशुओं के साथ व्यवहार करना बहुत मुश्किल होता है, लेकिन साथ ही इन बातों को टाला भी नहीं जा सकता। हम जानते है कि नवजात शिशुओं के नाखून बहुत तेजी से बढ़ते हैं, तो उनको समय रहते काटना बहुत जरूरी है। आइए जानते है कि अपने नवजात शिशु के नाख़ून कैसे काटें।

    अपने नवजात शिशु के नाख़ून काटना मेरे लिए भी एक चुनौती थी, पहली बार माँ होने के नाते, मुझे मेरी बच्ची के नाखूनों को काटने के लिए किसी भी तेज धार वाली वस्तु का इस्तेमाल करते वक्त डर लगता था। मेरे लिए यह बहुत ही तनावपूर्ण था।

    जैसा कि मैंने पहले कहा था, नवजात शिशुओं के नाख़ून बहुत जल्दी बढ़ जाते हैं। और, बच्चे के नाख़ून छोटे होने के बावजूद भी, तेज धार के होते हैं। नवजात शिशुओं का खुद के हाथों पर नियंत्रण नहीं होता, इस वजह से शिशु अपने आप को अक्सर नोंच/खरोंच लेते है।

    नाख़ून काटते वक्त मेरी बच्ची बहुत रोती थी

    जब भी मैं अपनी बच्ची के नाख़ून काटने लगती थी, तब वह बहुत हिलती थी और रोती थी। यह तब तक मेरे लिए डरावना था जब तक कि मुझे यह पता नहीं था कि नाख़ून काटना उसके लिए एक नया अनुभव है इसके साथ ही नेल क्लिपर के ठंडेपन की वजह से वह परेशान हुआ करती थी।

    कैंची या नेल क्लिपर

    कैंची या नेल क्लिपर, इस्तेमाल के लिए दोनों ही ठीक हैं। दोनो में एक का चुनाव आपकी सुविधा पर निर्भर करता है कि आप किस के इस्तेमाल में ज़्यादा आसानी महसूस करती हैं। फिर भी, शिशु के लिए कैंची इस्तेमाल करते वक्त, यह ध्यान में रहें कि वह साफ़ और नई हो। और अच्छा रहेगा कि आप कैंची को कुछ समय के लिए अपनी मुट्ठी में पकड़ ले, ताकि उसका तापमान शिशु के शरीर के तापमान के समान हो जाए।

    शिशुओं के लिए वयस्कों के नेल क्लिपर्स और कैंची इस्तेमाल ना करें। बच्चों की कैंची और नेल क्लिपर्स बड़ों से अलग होते हैं। ऐसे क्लिपर्स एवं कैंची आप फार्मेसी से या ऑनलाइन स्टोर से खरीद सकते हैं और इन्हें खरीदने से पहले यह सुनिश्चित करें कि इनके किनारे गोल होने चाहिए ताकि आपके बच्चे को किसी भी प्रकार की खरोंच ना पहुँचे।

    नाख़ून कब काटें

    कुछ माताएं बच्चों के नाख़ून तब काटना पसंद करती हैं, जब वे सोते हैं। जबकि कई अन्य माताएं बच्चों को नहलाने के बाद का वक्त चुनती हैं। नहाने के बाद, बच्चे की त्वचा मुलायम होती है और उस वक्त आपका बच्चा अधिक आरामदेह महसूस करता है। बच्चे के नाख़ून काटते वक़्त, बच्चे को खिलौना देकर व्यस्त कर सकती हैं या फिर किसी की सहायता मांग सकती हैं। जितना आपका बच्चा शांत रहेगा, उतना ही आपके लिए अच्छा रहेगा और आप आसानी से उसके नाख़ून काट पाएँगी।

    नवजात शिशु के नाख़ून कैसे काटे

    How To Cut Newborn's Nail
    How To Cut Newborn’s Nail

    शुरू में, आप बच्चे की उंगली थोड़ा पीछे से दबाएं। ऐसा करने से, आप बच्चे के नाख़ून के नुकीले भाग को बाहर निकल पाने में सक्षम हो जाएंगे। उसके बाद, आपको अंत्यंत सावधानी के साथ, नाख़ून का सफ़ेद भाग काटना चाहिए।

    नाख़ून काटते वक्त बहुत सावधानी बरतें और नाख़ून को गहराई से ना काटे। अगर आपका बच्चा परेशान हो रहा है या आपको जरूरत से ज़्यादा परेशान कर रहा हो तो नाख़ून काटने की प्रक्रिया को कुछ समय के लिए स्थगित कर दे।

    मैं अपनी बच्ची के हाथों के नाख़ून महीने में कम से कम 5-6 बार काटती थी और पैर के नाख़ून महीने में कम से कम एक बार काटती थी।

    यह जरूरी है कि नाख़ून काटने के लिए अच्छा वक्त चुने, जब प्राकृतिक रोशनी उपलब्ध हो और जब आपको अपने फोन की या किसी मेहमान के आने की आशंका ना हो। मतलब नाख़ून काटते वक्त आप किसी बाहरी विचार से दूर रहें तो बेहतर होगा।

    यदि आपका नवजात शिशु नाख़ून काटने पर अच्छी प्रतिक्रिया नहीं दे रहा है, तो नाख़ून काटने की प्रक्रिया को कुछ समय के लिए स्थगित कर दे। जब तक आप शिशु के नाख़ून काट ना ले, बेहतर रहेगा कि बच्चे के हाथों पर दस्ताने पहनाए रखे ताकि बच्चे को किसी प्रकार की खरोच ना पहुँचे।

    Comments