शिशुओं के लिए महत्वपूर्ण विटामिन

94
READ BY
Photo Credit: bigstockphoto.com
Simranjit Kaur

Simranjit Kaur

Mother of one, Master of Education with specialization in child-psychology. Putting my qualifications into practice. After becoming mother, I met with real me. I am now learning new concepts of parenting every fresh day. Putting away childish ways to make room for my child's ways. Trying my level best to be a best mom.

Read this article in English
यह लेख English में पढ़ें।

मेरे पिछले लेख में, मैंने आपको उन 5 खनिज तत्वों के बारे में बताया था, जो बच्चे के विकास के लिए अत्यावश्यक है। जैसा कि मैंने वादा किया था, आज मैं आपको उन 6 विटामिनों के बारे में बताऊंगी, जो शिशुओं के लिए बेहद जरूरी हैं।

आजकल माता-पिता आहार तालिका (डायट टेबल) को लेकर कुछ ज्यादा ही साक्षर हैं जब नन्हे बच्चों का सवाल आता है, उनमें से कुछ बहुत सख्ती से इसका पालन करते है, और कुछ माता-पिता इस बात को सहानुभूति की नजर से देखते हैं। “क्या करूँ! मेरा बच्चा भी अपने पिता की तरह भोजन को लेकर बहुत नखरे करता है।” पर विशेषज्ञों की माने तो ऐसा नहीं किया जाना चाहिए। बच्चे की भलाई के लिए, उसके माता-पिता होने के नाते, इन 6 महत्वपूर्ण विटामिनों के महत्त्व को समझना बेहद जरूरी है।

विटामिन ए (A)

बच्चे की आँखों की रौशनी के सुधार और हड्डियों के विकास में विटामिन ए (A) महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कई अन्य विटामिनों की तरह, यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाता है जिससे बच्चा संक्रमणों और बीमारियों से सुरक्षित रहे। यह विटामिन बाल, नाख़ून, और त्वचा सहित शरीर में ऊतकों (tissues) का विकास करता है।

जरूर पड़े – बच्चे के विकास के लिए पांच प्रमुख खनिज पदार्थ

गाजर, शकरकंद, पालक, खरबूज, खुबानी, लाल मिर्च, आम, ब्रॉकोली, मटर, सतालू/आड़ू और पपीता जैसे पदार्थों से आप यह विटामिन प्राप्त कर सकते हैं

विटामिन बी (B)

विटामिन बी (B) काम्प्लेक्स यानि कि विटामिनों का एक समूह (बी 1, बी 2, बी 3, बी 5, बी 6, बी 7, बी 9 और बी 12) होता है जो चयापचय (metabolism) सही तरीके से सुचारू रखने के लिए मिलजुलकर काम करते है। इसके साथ ही विटामिन बी स्वस्थ त्वचा, मासपेशियां, प्रतिरक्षा प्रणाली की कार्यक्षमता और नर्वस सिस्टम को बनाएं रखता है।

बच्चों में विटामिन बी (B) अथवा विटामिन बी काम्प्लेक्स (B Complex), ऊर्जा निर्माण करता है, रक्त परिसंचरण (blood circulation) में सुधार लाता है, चयापचय (metabolism) और नर्वस सिस्टम को बनाएं रखता है। इससे पहले की आप विटामिन बी काम्प्लेक्स का इस्तेमाल करें, अपने बाल रोग चिकित्सक की सलाह ज़रूर लें।

अनाज के दाने, हरी सब्जियां (शतावरी, पालक, ब्रॉकोली, गोभी, कद्दू), और ख़मीर, विटामिन बी के कुछ उत्कृष्ट स्त्रोत हैं।

विटामिन सी (C)

विटामिन सी (C) रक्त और ऊतकों में शरीर की कोशिकाओं और लाल रक्त कोशिकाओं की मरम्मत में बहुत मदद करता है। यह मसूड़ों का स्वास्थ्य और छोटे रक्त वाहिकाओं को मजबूत बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह विटामिन सी (C) ही है, जो घाव जल्द भरता है और संक्रमणों से बचाता है।

जरूर पड़े – आहार विविधीकरण – जानिये बच्चे की आहार में विविधता कैसे लाएं

विटामिन सी (C) के बहुत स्त्रोत हैं जैसे कि नींबू, कीवी, पपीता, ब्रॉकोली, खरबूजा, स्ट्रॉबेरी, आम, टमाटर , पालक, चकोतरा (पिंक ग्रेपफ्रूट) और केला।

विटामिन डी (D)

विटामिन डी (D) कैल्शियम से संबंधित है। विटामिन डी (D) दांत और हड्डियों के स्वास्थ (मजबूती) के लिए आवश्यक है। यह विटामिन बच्चे के विकास को प्रोत्साहित करता है और हड्डियों की उन्नति के लिए काम आता है। इसके अलावा, इन्सुलिन उत्पादन और सैल पुनर्जनन (cell regeneration) में विटामिन डी (D) सहायता प्रदान करता है।

हालांकि यह विटामिन आहार में मिलना मुश्किल है फिर भी सैल्मन मछली, दही, अथवा अंडे की जर्दी, यह विटामिन डी (D) के मुख्य स्त्रोत हैं।

विटामिन इ (E)

विटामिन इ (E) कोशिकाओं को फ्री रेडिकल डैमेज (free radical damage) से बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह विटामिन कोशिका पुनर्जनन और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत कराने में मदद करता है। यह कोशिकाओं की प्रकिया में हस्तक्षेप करता है।

विटामिन इ (E) प्राप्त करने के लिए, बच्चों को, बादाम, सूरजमुखी के बीज, बादाम का मख्खन, पालक, ब्रॉकोली, सोयाबीन का तेल, आम जैसे पदार्थ खाने चाहिए।

विटामिन के (K)

हालांकि इस विटामिन को अनदेखा किया जाता हैं, पर यह विटामिन खून के थक्के जमाने में काम आता है, जिससे चोट लगने पर अत्यधिक रक्तस्राव (excessive bleeding) नही होती। यह विटामिन किडनियों का कामकाज सही तरीके से चलाने के लिए, और हड्डियों का विकास तथा उनके सुधार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

गहरी हरी पत्तेदार सब्जियां, पालक, ब्रॉकोली, लैयट्स (lettuce), गोभी, ग्रीन टी, विटामिन के (K) इन पदार्थों में पाया जा सकता है। इनके इलावा जई (oats), सम्पूर्ण गेहुँ का आटा, ताजा मटर के दाने, अंडे और दूध से बने पदार्थ भी विटामिन के (K) के बेहतरीन स्रोत है।

क्या आपके पास विटामिन्स के बारे में कोई और सुझाव हैं जो आप अन्य माताओं के साथ बाँटना चाहेंगी? कृपया नीचे दिए गए कमेंट सेक्षन में लिखें। आइए, हम अन्य माताओं को मदद करनेवाली एक अनूठी श्रृंखला बनाते हैं।

Comments